Jawaharlal Nehru Biography in Hindi – Birth and Family Background, Education, Wife, Political Life, Books
Jawaharlal Nehru Biography in Hindi – Birth and Family Background, Education, Wife, Political Life, Books

भारत के स्वतंत्रता संग्रामियों में Jawaharlal Nehru एक परिचित चेहरा हैं जो की अपनी पूरी ज़िंदगी में महात्मा गांधी जी को अपना आदर्श मानके उनके दिखाए सिद्धांतों पर चलते रहे. आज हम Jawaharlal Nehru Biography in Hindi के इस ब्लॉग में Jawaharlal Nehru जी के जीवनी के कुछ दिलचस्प बातों पर चर्चा करेंगे.

Jawaharlal Nehru को बहुत से लोग चाचा नेहरू और पंडित जवाहरलाल नेहरू के नाम से भी जानते हैं. चाचा नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में माना जाता है क्यूँ की चाचा नेहरू को बच्चे बहुत पसंद थे. चलिए आज हम माननीय पंडित जवाहरलाल नेहरू जी के जीवनी के बारे में कुछ जानते हैं.

Jawaharlal Nehru ने अपनी पूरी जिन्देगी में भारत को एक प्रतिष्ठित राष्ट्र में परिवर्तित करने में समाप्त कर दिये, और ये स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री थे. Jawaharlal Nehru को गुलाब बहुत पसंद था इसलिए वो अपने कोट पर गुलाब का फूल हर रोज लगाते थे.

Jawaharlal Nehru Biography in Hindi – Birth and Family Background, Education, Wife, Political Life, Books)

Jawaharlal Nehru जी का जन्म 14 November 1889 को ब्रिटिश भारत के इलाहाबाद में एक कश्मीरी ब्राह्मण समुदाय में हुआ था. वे एक सम्पन्न परिवार के इकलौते बेटे थे.  

  • Full Name – Jawaharlal Nehru
  • Popular Name – Pandit Jawaharlal Nehru, Chacha Nehru
  • Date of Birth – 14 November 1889
  • Birth Place – Allahabad, India
  • Cast – Kashmiri Brahmin

Jawaharlal Nehru Family :

पिता Motilal Nehru और माता Swarup Rani Nehru के एक लोते बड़े बेटे थे जवाहरलाल नेहेरू. Jawaharlal Nehru के पिता ब्रिटिश शासन काल में एक प्रसिद्ध बैरिस्टर और समाजसेवी थे और उनकी माता भी एक समाजसेवी थी, जो की महिलाओं के अधिकार के लिए अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन करती थी.

मोतीलाल नेहरू और स्वरूपरानी नेहरू के तीन बच्चे थे जिसमें Jawaharlal Nehru बड़े बेटे थे और उनके दो बहने थी. बड़ी बहन का नाम Vijaya Lakshmi Pandit और छोटी बहन का नाम Krishna Hutheesing था.

Jawaharlal Nehru जी की बड़ी बहन उनके माता के जैसे प्रख्यात समाजसेवी थी, जो की आधे जा के संयुक्त राष्ट्र महासभा की पहली महिला अध्यक्ष बनीं और उनकी छोटी बहन एक प्रख्यात लेखिका बनी और ज्यादा करके अपने भाई Jawaharlal Nehru के ऊपर किताबें लिखी.

Jawaharlal Nehru Education :

Jawaharlal Nehru एक सम्पन्न परिवार के इकलौते बेटे थे इसलिए उनकी शिक्षा बेहतर से बेहतर होना स्वभाबिक बात थी. Jawaharlal Nehru ने अपनी 14 वर्ष की आयु तक घर पे ही निजी शिक्षक के द्वारा शिक्षा प्राप्त की. इसके बाद वे 15 साल की उम्र में लंदन के हीरो स्कूल में दाखिल होगेये जो की लंदन का एक प्रसिद्ध स्कूल था.

  • School – Harrow School, London
  • College – Trinity College Cambridge
  • Law College – Inner Temple in London

स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने अपनी शिक्षा को ट्रिनिटी कॉलेज, कैम्ब्रिज में आरम्भ की और वहां से वो प्राकृतिक विज्ञान में डिग्री हासिल करे. इसके बाद जवाहरलाल नेहेरू ने अपनी शिक्षा को लन्दन के इनर टेम्पल कॉलेज में अपनी बैरिस्टर की पढ़ाई के साथ पूरी करली.

Jawaharlal Nehru Married Life :

Jawaharlal Nehru ने अपनी शिक्षा को समाप्त करने के बाद 1912 में भारत लौट आये, और वो अपने पिता के साथ मिलकर कानून का अभ्यास करने लगे. लगभग 4 साल कानून का अभ्यास करने के बाद वो अपने पिता और माता के पसंद अनुसार Kamala Kaul के साथ शादी के बंधन में बंध गये.

उनके एकमात्र संतान थी जो की 1917 में पैदा हुई थी और उनका नाम Indira Priyadarshini Nehru था. इंदिरा प्रियदर्शिनी भी उनके पिता के जैसे बहुत से अच्छे काम करके आगे जा के भारत की प्रधान मंत्री के रूप में पहचानी गई.

  • Date of Marriage – 8 February 1916
  • Wife – Kamala Kaul
  • Daughter – Indira Priyadarshini Nehru

Jawaharlal Nehru Political Life :

Jawaharlal Nehru के पिता मोतीलाल नेहरू Mahatma Gandhi के कर्म कर्ताओं में प्रमुख थे और इनके दिखाए मार्ग को अनुसरण करते थे. 1916 में Jawaharlal Nehru ने अपने पिता के माध्यम से गांधी जी के संस्पर्श में आये, और गांधी जी के दिखाए सिद्धांतों से बहुत प्रभावित हुए.

नेहरू जी को अपने राजनीतिक ज्ञान महात्मा गांधी जी से प्राप्त हुई थी. गांधी जी Jawaharlal Nehru में एक सर्वोत्तम राजनीतिक नेता देख रहे थे और वे समझ चुके थे की नेहरू जी आघे जा के एक प्रमुख नेता के रूप में परिचित होंगे.

चलिए यहां हम Jawaharlal Nehru जी के राजनीतिक सफर के कुछ महत्वपूर्ण बातें जानते है.

  • 1912 में Jawaharlal Nehru ने भारत लौटने के कुछ महीने के बाद पटना में आयोजित भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के वार्षिक अधिवेशन में भाग लिए, और वहां उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को एक moderates and elites पार्टी के तौर पर महसूस किया.
  • पहेली विश्व युद्ध के दौरान पंडित नेहरू ने इलाहाबाद में संगठन के प्रांतीय सचिवों में से एक के रूप में चुने गये. उन्होंने भारत में ब्रिटिश सरकार द्वारा प्रणयन किये गये अधिनियम के खिलाफ आवाज उठाया जिस के लिए उनके विचारों को कट्टरपंथी माना जाता था. इसके चलते नेहरू जी ने भारतीय सिविल सेवा का उपहास किया और उनको भी बहुत से कटु भाषा सुना डाले.
  • Jawaharlal Nehru को किसानों से बहुत ज्यादा लगाव था और इनके हक के लिए वे बहुत से कार्य कर चुके हैं. 1920 में जवाहरलाल जी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश के प्रताप गड जील्ले में पहली बार किसान मोर्चा आरम्भ किया गया था.
  • महात्मा गांधी के दिखाए मार्ग पर चलते हुए Jawaharlal Nehru जी ने 1920 और 1922 के अन्दर असहयोग आंदोलन का नेतृत्व किया जिसके कारण उन्हें दो बार कैद हुई. 1923 में Jawaharlal Nehru को अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के महासचिव के तौर पर चुना गया था.
  • 1926 में Jawaharlal Nehru जी ने Belgium का दौरा किया और वह के Brussels में हो रही उत्पीड़ित राष्ट्रीयता महा सभा में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक आधिकारिक प्रतिनिधि के रूप में भाग लिया.
  • भारतीय सांविधिक आयोग, जिसे आमतौर पर Simon Commission के रूप में जाना जाता है Sir John Simon के नेतृत्व में साल 1928 में भारत में पहुंचा. साइमन कमीशन के दौरान Jawaharlal Nehru पर लाठीचार्ज किया गया था.
  • 1928 को Jawaharlal Nehru जी के नेतृत्व में “Independence for India League” का स्थापन किया गया और जवाहरलाल नेहेरू को यहाँ का महासचिव बनाया गया.
  • गांधी जी के द्वारा परिचालित नमक सत्याग्रह में Jawaharlal Nehru ने एक नेहेत्वपूर्ण भूमिका निभाया था जिसके कारण उन्हें कई बार ब्रिटिशों के खिलाफ खड़े होने केलिए कैद किया गया था.
  • 1940 को एक व्यक्तिगत सत्याग्रह की पेशकश करने के आरोप में उन्हें फिर से गिरफ्तार कर लिया गया और 1941 को उन्हें रिहा किया गया.
  • 7 August 1942 को Jawaharlal Nehru ने ‘अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी’ में ‘भारत छोड़ो’ प्रस्ताव पारित किया जिस के लिए उन्हें 8 August 1942 को कुछ अन्य नेताओं के साथ गिरफ्तार करके अहमदनगर किले में ले जाया गया ये उनकी आखिरी गिरफ्दारी थी. 1945 को उन्हें छोड़ दिया गया.
  • July 1946 में Jawaharlal Nehru को चौथी बार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में चुना गया और 1947 से 1964 तक वो भारत के प्रथम प्रधान मंत्री के रूप में कार्यभार संभाले.

Jawaharlal Nehru Books :

Jawaharlal Nehru अपने जीवनकाल में बहुत से पुस्तकों को लिखे जिसमें उनकी भारत के प्रति उनकी उदारता दिखती थी. वे अपनी लगभग बहुत से किताब को अंग्रेजी में लिखे क्यों की वो अंग्रेजी के एक प्रखर लेखक थे. द डिस्कवरी ऑफ इंडिया / The Discovery of India, ग्लिम्प्स ऑफ वर्ल्ड हिस्ट्री / Glimpses of World History और टावर्ड फ्रीडम / Toward Freedom (उनकी आत्मकथा) आदि Jawaharlal Nehru के कुछ प्रख्यात पुस्तक है.

Jawaharlal Nehru ने अपनी बेटी को 30 पत्र लिखे थे जो की बाद में इन पत्रों को  एक पुस्तक में परिवर्तित करके “एक पिता की बेटी / a Father to His Daughter” के नाम से प्रकाशित किया गया.

Jawaharlal Nehru Death :

Jawaharlal Nehru ने अपने जीवन के आखिरी समय में भारत के पड़ोसी देश चीन के साथ संपर्क बनाने के लिए बहुत प्रयास किए लेकिन चीन ने भारत पर हमला कर दिया इसके चलते Jawaharlal Nehru जी को बहोत बड़ा धक्का पहुंचा, और उन्होंने 27 May 1964 को दिल्ली में अपनी आखिरी साँस ली. Jawaharlal Nehru जी का मोत भारत के लिए एक बहुत बड़ा नुकसान था.

  • Death – 27 May 1964
  • Cause of Death – Heart Attack

Summary :

आज हम ने Jawaharlal Nehru Biography in Hindi के इस ब्लॉग में जवाहरलाल नेहरू जी के कुछ महत्वपूर्ण और दिलचस्प बातों को बहुत अच्छे से समझा. अगर आप को मेरे लिखे गये इस Blog पढ़कर कुछ नयी चीज जानने को मिला या फिर आप को ये Blog पढने में अच्छा लगा तो जरुर इस Blog को अपने दोस्तों के साथ Share करें. धन्यवाद

Debendra Chandra Pattanaik

Hello Friends and all, में "Debendra Chandra Pattanaik" इस ब्लॉग का संस्थापक और एक Hindi writer हूँ. इस ब्लॉग पर में नियमित रूप से अछे अछे जीवनी share करता रहूंगा जो की आप को Entertaining के साथ साथ आपको अपने लाइफ में आगे बढ़ने की प्रेरणा देगा.

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply